कृषि

मध्य प्रदेश जलवायु परिस्थितियों, मिट्टी और फसलों के विविध पैटर्न के साथ संपन्न है । इसलिए इसकी भूमि क्षेत्र 11 कृषि जलवायु क्षेत्रों में विभाजित किया गया है । पिछले कुछ दशकों में मध्य प्रदेश ने कृषि के क्षेत्र में सार्थक प्रगति और विकास किया है जिससे यहाँ की खाद्यान्न उत्पादन क्षमता दोगुनी हो गई है । यह भारत में कुल खाद्यान्न उत्पादन का 7.7% योगदान देता है ।  दलहन और तिलहन उत्पादन में क्रमशः  24% और 25% योगदान के साथ मध्य प्रदेश देश में पहले स्थान पर है ।

योजनाएं / नीतियाँ

  1. आईसोपाम योजना
  2. सघन कपास विकास योजना
  3. सघन गन्ना विकास योजना
  4. एकीकृत अनाज विकास कार्यक्रम (मोटा अनाज एवम चावल)
  5. अन्नपुर्णा योजना
  6. समन्वित पोषक तत्व प्रबंधन एवं उर्वरकों का संतुलित व समन्वित उपयोग कार्यक्रम (आई. एन. एम. )
  7. बलराम ताल योजना
  8. भू-जल संवर्धन योजना
  9. राष्ट्रीय बायोगेस योजना
  10. राष्ट्रीय कृषि बीमा योजना : राष्ट्रीय कृषि बीमा योजना अन्तर्गत रबी 2010-11 की अधिसूचना
  11. नदी घाटी/बाढ उन्मुख नदी योजना
  12. नलकूप खनन योजना
  13. राष्ट्रीय जलग्रहण क्षेत्र विकास कार्यक्रम
  14. सूरजधारा योजना
  15. मध्यप्रदेष कृषि में महिलाओं की भागीदारी (मापवा) योजना : दिशानिर्देश, स्व सहायता समूह – दिशानिर्देश
  16. आत्मा योजना : पुनरीक्षित दिशानिर्देष , फार्म स्कूल – पुनरीक्षित दिशानिर्देष
  17. बैलगाड़ी योजना
  18. बीज ग्राम योजना
  19. अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति प्रशिक्षण योजना
  20. राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन
  21. राष्ट्रीय कृषि विकास योजना